Important G.K.Trick 3 ( आइये जानते है वायुमंडल के बारे में )

    0
    31

     .                                                                                  वायुमंडल

    〉≡〉         प्रथ्वी के चारो तरफ व्याप्त गैसीय आवरण को वायुमंडल कहते है | हमारा वायुमंडल 5 भागों में बंटा है | 

    .      वायुमंडल के स्तर क्रम से (धरातल से ऊपर की ओर )                                      विभिन्न स्तरों की विशेषताएं 

    .       ट्रिक ≡〉  छात्र सभाओं में आ के बोल                                                   ट्रिक ≡〉 वर्षा, आंधी लाए क्षोभमण्डल 

    .       छात्र – क्षोभमण्डल (8-18 k.m.)                                                                                      समताप उडाए वायुयान

    .       सभा – समतापमंडल (18-32 k.m.)                                                   ओजोन करे हमारी रक्षा CFC करे सत्यानाश

    .        ओं –  ओजोनमंडल (32-60 k.m.)                                                                         सिग्नल मिलाए आयनमंडल

    .         में  –   कुछ नहीं                                                                                                 हा. ही. करे बाह्यमण्डल

    .      आके – आयनमण्डल (60-640 k.m.)                                    व्याख्या – क्षोभमण्डल,वायुमण्डल की सबसे निचली परत है|

    .      बोल – बाह्यमण्डल (640 k.m. +                                  इसे संवहन.परिवर्तन मण्डल भी कहते है| इस मण्डल में मौसमी

    .                                                                                         घटनाएं घटती है|संतापमण्डल में वायुयान उड़ाने की आदर्श दशा

    ≡〉 1.वायुमण्डल के निचले हिस्से में कार्बन डाई आक्साइड,          पायी जाती है कभी-2 विशेष मेघों (मूलाभ) का निर्माण होता है|

    नाइट्रोजन, आक्सीजन जैसी भारी गसों की प्रधानता है|            ओजोनमण्डल में एक ओजोन परत पाई जाती है| जिसे प्रथ्वी का

    2. उपरी हिस्से में हाइड्रोजन, हीलियम, नियाँन जैसी                सुरक्षा कवच कहते है| यह परत पराबैगनी किरणों को अवशोषित

    हलकी गैसें पायी जाति है |                                             कर लेती है| आयनमण्डल में संचार, उपग्रह अवस्थित है|बाह्यमण्डल

    3. ओजोन परत की मोटाई नापने की इकाई डोब्सन है|              में हाइड्रोजन तथा हीलियम गैसों की प्रधानता है |




     

    भूकम्प 〉≡〉 प्रथ्वी के भू-पटल में किसी ज्ञात या अज्ञात कारणों से होने वाला कम्पन भूकम्प कहलाता है | भूकम्प आने से पहले

    रेडॉन गैसों की मात्रा में वृद्धि हों जाति है |

     

     निम्न स्थानों पर सीस्मोग्राफ की स्थापना की गई|                                                     प्रमुख संस्थान

    ट्रिक ≡〉   पूनम मुझको दिल दे                                                                 ट्रिक ≡〉  अभी रुढ़की जा मोदी भूको है |

    .       पूनम –  पूना                                                                              अभी रुढ़की – भूकम्प अभियांत्रिकी प्रशिक्षण (रुढ़की )

    .       मुझ – मुम्बई                                                                                            जा – कुछ नहीं

    .       को – कोलकाता                                                                             मोदी – भारतीय मौसम विभाग (दिल्ली )

    .      दिल – दिल्ली                                                                                    भूको – भू – सर्वेक्षण विभाग (कोलकाता )

    .          दे – देहरादून

    .                       भूकम्पीय तरंगें                                                                               भूकम्प के कारण

    ट्रिक ≡〉 Primary . Secondry में Love किया                                   ट्रिक ≡〉  अणु की ज्वाला से प्लेटें पुन: चली

    Primary तरंगें – अनुद्धैर्य तरंगें हैं, ठोस, द्रव, गैस तीनों                                    अणु – अणुबम परीक्षण

    .                         से होकर गुजर सकती हैं |                                                 ज्वाला – ज्वालामुखी के कारण

    Secondry तरंगें – अनुप्रस्थ तरंगें हैं, ये द्रव से होकर                                       प्लेटें –  प्लेटों की गतिशीलता

    .                             नहीं गुजर सकती |                                                          पुन: – प्रत्यास्थ पुनस्चलन सिद्धान्त(H.F.रीड)

    Love तरंगें –  ये धरातलीय तरंगे हैं | ये सर्वाधिक विनाशकारी

    .                    हैं | कम्पन सर्वाधिक है |




    • भाकम्पीय अध्यन →  सिसमोलॉजी
    • लहरों का अंकन  →  सिस्मोग्राक
    • तीव्रता का मापन →  रियेक्टर स्केल
    • भूकम्प अधिकेन्द्र  →  जहाँ सर्वप्रथम तरंगों का पता चलता  है |
    • भूकम्प मूल        →    जहाँ भूकम्प की घटना का प्रारम्भ होता  है |
    • सर्वाधिक भूकम्प प्रभावित क्षेत्र →  प्रशांत महासागरीय तटीय पेटी, जहाँ विश्व के 68 % भूकम्प आते हैं |
    • हिमोसीस्मल  →  एक ही समय पर आने वाले भूकम्पीय क्षेत्रों को मिलाने वाली रेखा |
    • समाधात रेखा →  समान भूकम्पीय तीव्रता वाले स्थानों को मिलाने वाली रेखा |



    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here